Thanks for those who read and write

।। लिखना – पढ़ना देन है उसकी ।।

एक बार की बात है…

लिखना – पढ़ना देन उसकी,
जिसने बनाई ये दुनिया,
पढ़ना फितरत उसकी है,
जो दुनिया में है जीता ।

लिखते हुए न जाने कई,

किरदार नए लिख देता है,
पढ़ते रह जाते हम – तुम,
दिल से वाह ! निकलता है ।


सच कहता हूँ यारों मै,
मैं एक लफ्ज़ न लिख पाया,
जब से पढ़े है ढाई आखर,
तब से है लिखना आया ।
लिखने वाले भी उसमे,
पढनेवाले भी उसमे,
जो है लिखा वो भी उसमे,
जो न लिखा वो भी उसमे ।
इसीलिए तो कहता हूँ,
लिखना – पढ़ना देन है उसकी,
जिसने बनाई ये दुनिया ।
।। धन्यवाद ।।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: