कठपुतली का नाच

आज पहली बार मैं कठपुतली की तरह नहीं बल्कि एक कठपुतली को नाचने जा रहा हूँ । आज पहली बार ऐसा कुछ किया ।  गलतियाँ तो बहुत हुई पर सीखने को कुछ ज़्यादा ही मिला । सबसे बड़ी मुश्किल तब खड़ी होती है जब उन लोगों के साथ काम करना हो जो हमें समझ नहीं पाते । इसमें उनकी कोई गलती नहीं होती और ना ही हमारी पर फिर भी सोच में एक बड़ा फ़ासला होता है जो हमें एक साथ एक मंच पर आने नहीं देता ।
खैर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: