मैं नहीं तू नहीं…

समंदर ठहर गया सा है,
बादल बैठे हैं एक सम्त,
फ़लक ज़मी से है जुड़ गया,
क्षितिज की कोई जगह नहीं,
मैं – मैं नहीं… तू – तू नहीं…।

खो गया सब खो गया रब,
किसकी इबादत करूँ अभी,
ऐसा हुनर है सिखा दिया,
कोई हुनर अब बचा नहीं,
मैं – मैं नहीं… तू – तू नहीं…।

अक्सर रूठ के बैठा था,
या खुद से छुट के बैठा था,
मुझको ऐसा तोड़ दिया,
टूटना अब कुछ बचा नहीं,
मैं – मैं नहीं… तू – तू नहीं…।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: