एक पत्थर

एक पत्थर मैं उठाऊं, एक पत्थर तू उठा,
तोड़ देँ अपनी ज़मीनें, बाँट लें अपना खुदा ।

हक़ जमालें पत्थरों पर, कर लें सबकुछ मुट्ठी में,
कैद कर जग की खुदाई, बनलें हम खुद ही खुदा ।

कैसे कैसे लोग कैसे, खून के प्यासे बने,
करते कत्ल ए आम और, बदनाम करते हैं खुदा ।

होके सबसे हताश मैंने, ये सयाही पलटी है,
होके यूँ अनजान जाने, तू कहाँ बैठा खुदा ।

या फिर एक पत्थर मैं उठाऊँ…
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: