एक ऐसी जगह भी है…

एक ऐसी जगह भी है,
जहाँ…, 
तैरते हुए,
समंदर के किनारे मिलते हैं ।

सुबह भी मिलती है,
रात के ख्वाब भी मिलते हैं ।

लफ़्ज़ों की चादर में,
लब चुपचाप भी मिलते हैं ।

उलझन मिलती है,
सुलझे जवाब भी मिलते हैं ।

एक ऐसी जगह भी है,
जहाँ…
खुद से मिल जाता,
हूँ मैं कभी कभी ।

सोचता रहता हूँ मैं खो गया,
जो था यहीं अभी ।

हैं नादान जो अपने से,
अनजान भी मिलते हैं ।

शैतान भी मिलते हैं,
वहाँ भगवान् भी मिलते हैं ।

एक ऐसी जगह भी है…
जहाँ सब मिलते हैं खुद से ।

उस जगह मुझे जाना…
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: