फिर वही मन

ना जाने किसके ख्वाब में,
तरसती हैं आँखें सोने को,
मंज़िल से प्यारी लगती हैं राहें,
भटकने को खोने को ।

क्यों अनजाने यार के,
दीदार में राही का मन है,
खुशियों की फिराक में,
मजबूर है रोने को ।

तस्वीर पिरोने लगे खयाल,
ज़ेहनों के बन्दे करे बवाल,
बेख़ौफ़ चले नाकामी से,
दरिया में आँग डुबोने को ।

ना जाने किसके ख्वाब में…।।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: