I am traveller – राही हूँ… – Hindi Poem

एक उम्मीद का दरिया हूँ, कश्ती हूँ, किनारा हूँ,
दिन में सूरज रात में चाँद, वो आकाश तुम्हारा हूँ ।

जंग सा हूँ और प्यारा भी, जीता कभी मैं हारा हूँ,
मंज़िल पाने निकला हूँ, एक राही आवारा हूँ ।

जज़्बातों के बागों में पल पल महकी एक ज़ारा हूँ,
चूक ना जाना ये लम्हा ना मिलता कभी दोबारा हूँ ।

साथ – साथ जो चले कोई तो, काबिल एक सहारा हूँ,
बाप के कंधे चढ़ आया, एक माँ की आँख का तारा हूँ ।

एक राही आवारा हूँ |

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: