A Fable – क़िस्सा – Hindi Poem

हम सब हिस्से, क़िस्से के,
उन क़िस्सों की कहानी एक,
हर दिन का हर एक पन्ना,
कुछ ख़ुशियों का, कुछ ग़म का ।
कोई ना जाने जीवन की,
राह कहाँ ले जानी है,
पकड़ ना पाया कोई मन,
जीवन बहता पानी है ।
फिर भी सब सारे जीते,
भूत – भविष्य की छत नीचे,
भटक रहे आगे आगे,
वर्तमान ठहरा पीछे ।
है अनजान सा यह मेहमान,
क्या लाया क्या ले जाए,
सब रह जाए धरा – धरा,
बस एक क़िस्सा रह जाए…
सब हिस्से उस क़िस्से के….
सब हिस्से उस क़िस्से के…
Advertisements

One thought on “A Fable – क़िस्सा – Hindi Poem

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: