Tana Bana – ताना बाना – Hindi Poems

Hindi Poem
बुनने लगा फिर वो ताना – बाना,
यादों को अपने फिर से सजाना,
कहता है पागल सारा ज़माना,
अपनी ही धुन में वो है दिवाना |
फिक्रों के ऊपर ज़िक्र है जिसका,
उसको ही अपने दिल में बिठाना,
वो ही एक सच्चा – सादा तराना,
फिर भी हर एक से है अनजाना |
हर कोई उसकी बातें बनाए,
हक़ जमाए अपना बताए,
अपने ही हाथो परचम लहराना,
उसके इरादों को किसने है जाना |
सीधा चले वो उल्टा ज़माना,
अपनी ही धुन में बुने ताना – बाना |
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: