स्वर्ग में कहर

ताना शाह जिंदा है, गले हमारे फंदा है,
जो आवाज़ उठाए तो, ऐसा बंदा गन्दा है ?
अपने देश का खाता है, मुर्दाबाद चिल्लाता है,
अफज़ल – खटमल चूसे खून, भाई ये कैसा नाता है ?
रोष न ये कल – परसों का, जँचा न तड़का सरसों का,
कुरेदे ज़ख्म वो माँगे है, कश्मीर का हिस्सा बरसों का ?
पिछले दरवाज़े से क्यूँ, पड़ोसी भेजे ज़हर है,
खुद झुलसे हमें चोट दे, स्वर्ग में भी क्यूँ कहर है ?
स्वर्ग में भी क्यूँ कहर है ? 
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: