Amar Jawan Jyoti – अमर जवान ज्योति – hindi poem

 
अमर जवान ज्योति 
तप रहा है भूमि का,
सीना लहू की बूँद से,
डर भी डर से काँपता,
रहता है आँखें मूँद के ।
रोष है, आक्रोश है वो,
होश में तैयार है,
और वरूण से तेज़ उसका,
दुश्मनों पे वार है ।
थर्र थर्रात है हिमालय,
जिसके पग की चाप से,
हिम पिघलता है बराबर,
उसके बल के ताप से ।
नाप ली एक गोते में,
सागर की सब गहराइयाँ,
फीकी पड़ जाती है नभ की,
अनछुई ऊँचाइयाँ ।
वीरता है आत्मा,
क़ुर्बानी जिसकी शान है,
वो अमर जवान ज्योति,
वो अमर जवान ज्योति ।
Advertisements

3 thoughts on “Amar Jawan Jyoti – अमर जवान ज्योति – hindi poem

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: