gulabo ki chahahat – गुलाबों की चाहत – hindi poem

गुलाबों की चाहत,

और काटों का डर,
डूब ना पाओगे,
पाओगे ना उबर,
ना पूरब का साथ,
ना पश्चिम का घर,
बंजारों से ही,
घूमोगे दर दर ।

झूलोगे बीच में,
घड़ी के लंगर से,
कभी गम इधर से,
कभी नाम उधर से,
गलतफहमियों की,
कोई हद न होगी,
अगर एक मुकाम,
पाने की ज़िद ना होगी ।

आवारा रूह को,
ना जन्नत ना दोजख,
पाने सुकूँ और,
भटकेगा कब तक,
चले क्यूँ वहीं,
जहाँ जाती है दुनिया,
जहाँ रहता कर्ता,
और माया की मुनिया ।

हो कुछ तो अलग,
कुछ हो सबसे परे,
जाने हर कहकशा,
एक जगह खड़े,
सारा सब एक हो,
जो भी अन्दर – बाहर,
शून्य सा शांत हो,
लहरों का वो सागर ।

हो गुलाबों से प्यार,
ना हो काँटों का डर,
जो चला लौट के,
पाएगा वो ही घर ।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: