Ek zamane ke baad – एक ज़माने के बाद – Gazhal – rahulrahi

ek zamane ke baad – hindipoem – rahulrahi.com
किस्सों की जब तह खुली, तेरे ज़िक्र के बाद,
इत्र सा महका लम्हा, एक ज़माने के बाद ।
होश खोया सच को पाया, सब गया सा हुआ,
फ़िक्र गायब मन आज़ाद, मेरे जाने के बाद ।

 

घूमते फिरे पर्वत पर्वत, मिला ना कोई निशाँ,
आसमाँ गिरा पैरों तले, मिट्टी खाने के बाद ।
हवाएँ भी जब तन को लगे, बोझ बरसों का,
लीपो तेल सरसों का, ज़रा नहाने के बाद ।
अब ज़रा कम होने लगी है चोर की अय्यारी,
खाई रोटी मेहनत की, मस्जिद में जाने के बाद ।
जैसे जैसे दिन गुज़रे, रात हुई, बरसों निकले,
पता चला सब ज़ाया है, सिक्के हथियाने के बाद ।

 

 

via Blogger http://ift.tt/2p2WcD8

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: