Yaad hai wo Gulmohar – याद है वो गुलमोहर – Hindi Poem

Yaad Hai Wo Gulmohar – Hindi Poem – rahulrahi.com

याद है तुम्हें वो गुलमोहर!!जिसकी आंखें नम थी उस दिन और सिले हुए लब थे।याद है तुम्हें वो गुलमोहर !!जिसके नीचे हम आख़िरी बार मिले जब थे।।

याद है तुम्हें वो गुलमोहर!!
जिसके नीचे हम, पहली बार मिले जब थे।
उसके तने को छूकर जब, पहली कसम वो खायी थी।
एकदम से तब देख हमें, वो गोरैया मुस्काई थी।।
वो गुलमोहर बना था जैसे, पहली निशानी प्रेम की,
कैसे तुम ओट में उसके, छिपकर यूँ शर्मायी थी।।
वो गुलमोहर, जिस पर ताज़ा फूल खिले तब थे।
जिसके नीचे हम पहली बार मिले जब थे।।

बदलते वक़्त के साथ तुमसे तो मिलते रहे हम।
बस मुलाक़ात उस गुलमोहर से फिर ना हो पायी।।
फूल झड़ते रहे और मौसम बदलते रहे।
इंतज़ार में गौरैया भी कई दिनों तक ना सो पायी।।
याद है तुम्हें वो गुलमोहर !!
जिसके पत्तों से छनकर आती धूप में भी गिले अब थे।
जिसके नीचे हम पहली बार मिले जब थे।।
शीतित कालचक्र में रिश्तों पर जब पड़ने लगा पाला।
कैसे एक दूजे के बग़ैर हमने एक दूजे को संभाला ।।
लौटे तुम एक दिन जैसे क्षणिक विचार की भाँति।
हमने भी एक और दिन विरह को जैसे तैसे टाला।।
अंतिम जब संवाद हुआ तो साक्षी बना फिर गुलमोहर।
बुझते रिश्ते को अग्नि दे वो घृत बना फिर गुलमोहर।।
ना कोई फूल खिला था उस दिन, ना कोई गौरैया थी।
अकेला था एक रिश्ता और था अकेला गुलमोहर।।

याद है तुम्हें वो गुलमोहर!!
जिसकी आंखें नम थी उस दिन और सिले हुए लब थे।
याद है तुम्हें वो गुलमोहर !!
जिसके नीचे हम आख़िरी बार मिले जब थे।।
शीतित – ठण्ड में अकड़ा हुआ।
घृत – तर किया या सींचा हुआ।

apoorv parik, hindi poems May 30, 2017 at 09:41PM

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: