Ye teri fitrat kab se hui – ये तेरी फितरत कब से हुई – hindi poem

ye-teri-fitrat-hindipoem-rahulrahi.com
ye-teri-fitrat-hindipoem-rahulrahi.com
दोराहों पर आकर रुक जाना,
ये तेरी फितरत कब से हुई ?
आँधी तूफानों से डर जाना, 
ये तेरी फितरत कब से हुई ?
तू ज्वाला है ये कब भूला तू ?
जलाकर लौ खुद बुझ जाना,
ये तेरी फितरत कब से हुई? 
अँधेरा है तो क्या हुआ ?
ये जुगनू तेरे साथी हैं | 
काली रातों से घबराना,
ये तेरी फितरत कब से हुई ?
तू खुद है तेरा पहरेदार,
न चाहत रख सहारों की,
अकेलेपन से मुरझाना, 
ये तेरी फितरत कब से हुई ?
रक्त को अपने जमने ना दे, 
रगों में आग जलाए रख,
शीतल झोंको में घिर जाना,
ये तेरी फितरत कब से हुई ?
ये वक़्त गवाह है पूछ इसे, 
कई बार हैं जीते रण तूने|
मंज़िल से पहले थम जाना, 
ये तेरी फितरत कब से हुई?
इस हार से क्यूँ संतुष्ट है तू?
ज़मीर क्या तूने मार दिया?
खुद की नज़रों में गिर जाना, 
ये तेरी फितरत कब से हुई?

hindi poems, motivational poem, shivani lawaniya July 02, 2017 at 10:29PM

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: